Saturday, April 20th, 2024

सोशल मीडिया पर बेचे जा रहे हैं टेस्टोस्टेरोन उत्पाद


एक नए अध्ययन से पता चला है कि टेस्टोस्टेरोन  के प्रभावों की नकल करने वाले स्टेरॉयड  लेने वाले लोगों में अलिंद फिब्रिलेशन नामक हृदय रोग  का खतरा बढ़ सकता है। अध्ययन के अनुसार पुरुष सेक्स हार्मोन, जैसे टेस्टोस्टेरोन, जिन्हें एंड्रोजेनिक एनाबॉलिक स्टेरॉयड भी कहा जाता है, का इस्तेमाल गलत तरीके से खासकर युवाओं में मांसपेशियों को बढ़ाने के लिए किया जाता है। लेकिन इससे उन लोगों में अलिंद फिब्रिलेशन का खतरा बढ़ सकता है जो पहले से ही आनुवंशिक रूप से दिल की बीमारी के प्रति संवेदनशील हैं।

अध्ययन के प्रमुख लेखक डॉ. लौरा सोमरफेल्ड ने कहा, हमारा अध्ययन उन युवा पुरुषों के हृदय स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव को समझने में महत्वपूर्ण योगदान दे सकता है जो मांसपेशियों को बढ़ाने के लिए स्टेरॉयड का गलत इस्तेमाल करते हैं। उन्होंने कहा, हालिया रिपोर्टों से पता चला है कि युवाओं को विशेष रूप से टिकटॉक जैसे सोशल मीडिया पर टेस्टोस्टेरोन उत्पाद बेचे जा रहे हैं, लेकिन हमने दिखाया है कि स्टेरॉयड का गलत इस्तेमाल एक विशिष्ट जोखिम उठाता है जिसके बारे में बहुत से लोग नहीं जानते होंगे। वैज्ञानिकों ने एक ऐसी स्थिति पर संभावित प्रभावों की जांच की जिसे अरिथमोजेनिक राइट वेंट्रिकुलर कार्डियोमायोपैथी कहा जाता है, जो आनुवंशिक रूप से निर्धारित होती है और मुख्य रूप से हृदय की मांसपेशियों की स्थिरता के लिए महत्वपूर्ण सेल कनेक्शन के गठन में व्यवधानों के कारण होती है। बर्मिंघम विश्वविद्यालय की प्रोफेसर लारिसा फैब्रिट्ज ने कहा, अफश्उ जैसी हृदय की मांसपेशियों की बीमारियां युवा, एथलेटिक व्यक्तियों को प्रभावित करती हैं और जानलेवा हृदय ताल गड़बड़ी का कारण बन सकती हैं। अलिंद फिब्रिलेशन आम जनसंख्या में एक आम स्थिति है।

टेस्टोस्टेरोन के बढ़े हुए स्तर के कारण इन रोगों की शुरूआत जल्दी हो सकती है। वैज्ञानिकों ने पहले नैदानिक रोगी डेटा के आधार पर पुष्टि की कि अफश्उ महिलाओं की तुलना में पुरुषों में अधिक बार और गंभीर रूप से होता है। प्रयोगशाला प्रयोगों में, उन्होंने पाया कि छह सप्ताह के अअर सेवन के साथ, बिगड़ा हुआ सेल कनेक्शन के साथ, हृदय ऊतक में सोडियम चैनल फंक्शन कम हो सकता है और अटरिया के भीतर सिग्नल चालन धीमा हो सकता है। अध्ययन के सह-लेखक और बर्मिंघम विश्वविद्यालय में इंस्टिट्यूट आॅफ क्लिनिकल साइंसेज में सहायक प्रोफेसर डॉ एंड्रयू होम्स ने कहा, यह काम बताता है कि युवा पुरुष व्यक्तियों में महत्वपूर्ण विरासत में मिले आनुवंशिक परिवर्तनों के साथ स्टेरॉयड दुरुपयोग के जवाब में दिल में बिजली की समस्याओं को विकसित करने का अधिक जोखिम होता है।

Source : Agency

आपकी राय

3 + 13 =

पाठको की राय